चम्पा अग्रवाल इण्टर कालेज, मथुरा

 

 

उन्नीसवीं सदी के अंत में कुशक गली मथुरा में अग्रवाल पाठशाला की स्थापना हुई, जिसकी स्थापना ने समाज में शिक्षा के प्रति जागृति पैदा की। जनपद में शिक्षा के क्षेत्र में सेवा की दृष्टि से अग्रवाल समाज के कतिपय सामाजिक कार्यकर्ताओं ने अग्रवाल शिक्षा मण्डल नामक संगठन बनाया। 20वीं सदी के प्रारम्भ में कानपुर निवासी लाला कामता प्रसाद जी सर्राफ की धर्मपत्नी श्रीमती चम्पा कुँवरि (जो संभवतः मथुरा की ही थीं), द्वारा इस हेतु दान स्वरूप प्रदत्त धन से कलेक्टर गंज के सामने टीले पर नजूल की जमीन लेकर, चम्पा अग्रवाल हाईस्कूल की स्थापना का विचार मूर्तरूप लेने लगा। गवर्नमेंट शिक्षा विभाग के तत्कालीन सर्वोच्च अधिकारी मि. ए.एच. मैकेन्जी द्वारा परिसर में आधार शिला रखी गई।इस संस्था को 1926 से मान्यता मिली हुई है। संस्था परिसर में वर्तमानतः 8065 वर्गमीटर क्षेत्रफल के छतयुक्त भवन तथा लगभग 3385 वर्ग मीटर खुली भूमि है। संस्था परिसर के सड़क की ओर वाले भाग में बाहर की और 26 दुकानें हैं जिनमें प्राप्त किराये की धनराशि प्रबन्ध समिति संस्था पर ही व्यय करती है।संस्था के अध्यापकों व छात्रों ने हमेशा सामाजिक जागरूकता व राष्ट्रभक्ति का परिचय दिया है, स्वतंत्रता आन्दोलन में संस्था परिवार के कुछ सदस्यों ने हिस्सा लिया। 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इन्दिरा गाँधी द्वारा थोपी गई आपातस्थिति के दौरान अध्यापकों से जनसंख्या नियंत्रण के सम्बन्ध में शालीनता के दायरे से बाहर जाकर जबरन कार्य के सरकारी आदेशों के विरोध में इस संस्था के तत्कालीन प्रधानाचार्य ने खुले विरोध का ऐलान कर दिया जिसका सभी शिक्षकों ने भी समर्थन किया था।

 

singh

 

 

इस संस्था को समाचार जगत ने विश्व स्तर पर तानाशाही के खिलाफ ‘मथुरा के कन्हैया की ललकार’ के रूप में चित्रित/प्रचारित किया था। स्मरणीय है कि जिस समय पूरा देश विरोधी नेताओं के कारागार में डाल दिये जाने के कारण किंकर्तव्यविमूढ़ होकर रह गया था और किसी और से भी कोई विरोधी/निषेधात्मक आवाज उठाने की हिम्मत का परिचय नहीं दे रहा था, उस नाजुक समय में चम्पा अग्रवाल इण्टर कालेज के अध्यापकों ने अपने प्रधानाचार्य के नेतृत्व में सामूहिक गिरफ्तारी देने का साहस किया तथा लोकतंत्र रक्षक के रूप में अध्यापक के सामाजिक दायित्वों का पालन करते हुए जनता को जगाने का काम किया।स्वतंत्रता के बाद संस्था में छात्रों की संख्या वर्ष 1977 तक वृद्धिशील रही (अधिकतम 3200 – श्री कन्हैयालाल गुप्त के समय) तत्पश्चात विभिन्न कारणों से कम होते-होते वर्तमान में केवल 700 ही रह गई है।विद्यालय में एन.सी.सी (नेशनल कैडिट कोर) संगठन के तहत दिनांक 13 अगस्त 1960 से छात्रों को सैन्य प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

 

 

 

singh

प्रारम्भ में विद्यालय में एक कम्पनी से शुरूआत हुई। जिसका दायित्य विद्यालय के वरिष्ठ प्रवक्ता श्री नवीन चन्द जैन को सौंपा गया। श्री जैन ने एन.सी.सी का कमीशन प्राप्त कर छात्र सैनिकों को अपने विद्यालय के प्रधानाचार्य महानुभावों के सहयोग से तथा कमान अधिकारियों के निर्देशन में कुशल प्रशिक्षण प्रदान किये तथा छात्रों को अनेक शिविरों में, प्रतियोगिताओं में, प्रतिभाग हेतु प्रोत्साहित कर अनेक उपलब्धियाँ हासिल कराई। लगभग एक दशक के अन्तराल के बाद विद्यालय में दो कम्पनियाँ कार्यरत हुई और दूसरी कम्पनी का भार विद्यालय के वाणिज्य प्रवक्ता श्री राजेन्द्र प्रसाद अग्रवाल को सौंपा गया जो सन् 1971 में 56वें प्री कमीशन कोर्स को करके वे अधिकारी बने। श्री राजेन्द्र प्रसाद की उच्च शिक्षा में किशारी रमन महाविद्यालय में नियुक्ति हो जाने के कारण यह स्थान रिक्त हो गया।श्री एन.सी. जैन साहब एन.सी.सी के मेजर के रैंक पर पदोन्नत हो चुके थे ओर एन.सी.सी की सेवा 50 वर्ष की आयु पूरी करके 1979 में छब्ब् से अवकाश ग्रहण किया अनके स्थान पर विद्यालय के सैन्य विज्ञान प्रवक्ता श्री विनोद कुमार श्रीवास्तव का चयन हुआ उन्होने मार्च 1996 तक दूसरी उप इकाई का कार्यभार ग्रहण कर मेजर चतुर्भुज अग्रवाल के नेतृत्व में करते रहे।वर्तमान में विद्यालय मे 2 प्लाटून कार्य रहे हैं, जिसका नेतृत्व केयर टैकर आफीसर प्रवक्ता हिन्दी श्री नूतन कुमार कर रहे हैं।